Loktantra Kya Hai

लोकतंत्र क्या है: Loktantra Kya Hai, लोकतंत्र किसे कहते है

Spread the love

लोकतंत्र क्या है: Loktantra Kya Hai इसमें हम आपको बताएंगे कि लोकतंत्र क्या है लोकतंत्र किसे कहते हैं सारी जानकारी हम आपको इस आर्टिकल में बताएंगे तो इसे आप पूरा जरूर पढ़ें और साथ-साथ बताएंगे कि प्रतिनिधि लोकतंत्र क्या है, लोकतंत्र क्या है और क्यों है, सारी जानकारी इस आर्टिकल में मिल जाएगा

लोकतंत्र क्या है – Loktantra Kya Hai

Loktantra Kya Hai: लोकतंत्र जो लोग शासन में हिस्सा देती है और लोकतंत्र एक प्रणाली है लोकतंत्र को आजादी को बनाए रखने की शक्ति देती है और लोकतंत्र जो है यह दो शब्द से मिलकर बने हैं जैसे लोक तंत्र लोकतंत्र बने हैं जो कि आपको बता दें कि लोगों के लिए शासन और लोगों का शासन लोगों के द्वारा बनाया गया शासन को लोकतंत्र कहते हैं

Loktantra Kya Hai दूसरा – शासन व्यवस्था की वैसी प्रणाली जिसने जनता या जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधि शासन करते हैं उसे हम लोकतंत्र कहते हैं

लोकतंत्र कितने प्रकार हैं

  • 1.प्रत्यक्ष लोकतंत्र
  • 2.अप्रत्यक्ष लोकतंत्र

प्रत्यक्ष लोकतंत्र

अप्रत्यक्ष लोकतंत्र

अप्रत्यक्ष लोकतंत्र क्या हैं

Loktantra Kya Hai: अप्रत्यक्ष लोकतंत्र को हम सभी प्रतिनिधि लोकतंत्र भी कहते हैं ऐसे लोकतंत्र जिसमें जनता वास्तविक शासन माना जाता है और जनता स्वतंत्रता पूर्वक प्रतिनिधि शक्ति प्रदान कर देती है अगर हम सभी एक तरह नजर डालें तो भारत एक ऐसा देश है जहां अभी तक भी अप्रत्यक्ष लोकतंत्र स्वीकार किया जाता है

अप्रत्यक्ष लोकतंत्र कितने प्रकार हैं

  1. अध्यक्षीय शासन प्रणाली
  2. संसदीय शासन प्रणाली

अध्यक्षीय शासन प्रणालीअध्यक्षीय शासन प्रणाली जो है यह राष्ट्रपति द्वारा मुख्य रूप से इस पर शासन किया जाता है और राष्ट्रपति के शक्तियों को प्रयोग किया जाता है

संसदीय शासन प्रणाली – संसदीय शासन प्रणाली जो होता है उस पर राष्ट्रपति का ना के बराबर ही शासन व राष्ट्रपति कर सकते हैं राष्ट्रपति जो होता है वह अपने आप को जो है और अपने आप में बहुत शक्तियां रखती हैं और इसे इसका मुख्य प्रणाली जो है प्रधानमंत्री व मंत्री मंडल ही शासन कर सकता है और इसका शासन जो है सकती है वह प्रधानमंत्री और मंत्रिमंडल के द्वारा ही किया जाता है

लोकतंत्र की परिभाषा – Loktantra ki paribhasha

Loktantra Kya Hai: लोकतंत्र जनता के लिए जनता का शासन है लेकिन अलग-अलग देश कालका परिस्थितियों में कुछ जटिल हो गई है प्राचीन काल से ही लोकतंत्र के संदर्भ में कई प्रस्ताव रखे गए हैं पर इसमें कई भी नहीं हुए इसे हम लोकतंत्र कहते हैं

लोकतंत्र का क्या अर्थ है? – Loktantra ka kya arth hai

Loktantra Kya Hai: जहां पर लोग निवास करते हैं वहां पर जो समाज बनता है वह सदैव दो भागों में बढ़ जाते हैं एक भाग होता है शासक और दूसरा भाग होता है शासित शासक होते हैं जो कानून बनाते हैं और जिनके हाथ में शक्ति होती है और शासित वे लोग होते हैं जो कार्य करते हैं और

आपको बता दें कि ध्यान में आपको रखना है कि शासक और शासित दोनों का नियम समान होते हैं लेकिन इनके कार्य अलग-अलग होते हैं शासक के पास शक्तियां ज्यादा होती है ताकि वे समाज में शांति स्थापित करती है और लोगों को न्याय दे सके और जो लोग शासन करते हैं

उनके पास शक्तियां ज्यादा होती है और जो शासित होते हैं उनकी संख्या अधिक होती है और शक्तियां उसके पास कब होती है हम लोग हम लोग या जनता आप लोग से नाम से जानते हैं और शासन को सरकार राजा अथवा के नाम से भी जानते हैं

लोकतंत्र की विशेषताएं

लोकतंत्र नागरिकों की गरिमा को बढ़ाता है – हमारे पास कि लोकतंत्र नागरिकों की गरिमा को बढ़ाता है जैसे हर व्यक्ति की उसके देश में उसकी इज्जत होती है

दूसरा है हमारे पास नागरिकों में समानता को बढ़ाता है – और यह लोकतंत्र की सबसे बड़ी बातें और सबसे खास बातें क्योंकि चाहे वह व्यक्ति अमीर हो या गरीब अगर उसने कुछ गलत काम किया है तो लोकतंत्र को एक ही नजर से देखेगी यानी कि लोकतंत्र की नजर में अमीर और गरीब सारे बराबर है

तीसरी बात यह है कि अगर सबको समानता दी – जाएगी तब को बराबरी दी जाएगी तो जो फैसला लिया जाएगा तो क्या होगा बेहतर होगा इसलिए बोला जाता है कि जो लोकतंत्र है उसमें फैसला बेहतर है यानी कि दूसरे शब्दों में कहें तो एक लोकतंत्र बेहतर फैसले लेता है इससे गलतियों को सुधारने का अवसर मिलता है मिलता है सरकार को वोट दिया उसने काम नहीं किया तो आप दोबारा वोट देकर सरकार को बदल सकते हैं यानी कि अगर कोई सरकार काम नहीं करती है तो आपके पास यह है कि आप उस सरकार को बदल सकते हैं कुछ आता है जाता है आते जाते हैं

इसे भी पढ़ें 

रहीम दास का जीवन परिचय: 

महाकवि भूषण का जीवन परिचय:

सुमित्रानंदन पंत का जीवन परिचय: 

आर्यभट्ट का जीवन परिचय

सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ का जीवन परिचय:

सूरदास का जीवन परिचय: 

तुलसीदास का जीवन परिचय निबंध जयंती: 

डॉ भीमराव अम्बेडकर का जीवन परिचय

महादेवी वर्मा का जीवन परिचय:

कबीर दास का जीवन परिचय

मीराबाई का जीवन परिचय

गौतम बुद्ध का जीवन परिचय:

मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय:

अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध का जीवन परिचय

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय:

कविवर बिहारी का जीवन परिचय: 

कवि भारतेंदु हरिश्चंद्र का जीवन परिचय:

जगन्नाथदास ‘रत्नाकर’ का जीवन परिचय:

आचार्य रामचंद्र शुक्ल का जीवन परिचय: 

मैथिलीशरण गुप्त का जीवन परिचय:

अंतिम शब्द,

इस आर्टिकल में हम आपको अच्छी तरह से आपको जानकारी दे दिए हैं कि लोकतंत्र क्या है और लोकतंत्र किसे कहते हैं लोकतंत्र की विशेषता क्या क्या है लोकतंत्र का अर्थ क्या होता है लोकतंत्र का परिभाषा सारी जानकारी हम दे दिए हैं आशा करता हूं आपको जो भी जानकारी आए हैं लेने के लिए आपको सारी जानकारी मिल गया होगा अगर पसंद है तो शेयर कीजिए ताकि वह भी जानकारी का ले सके धन्यवाद

लोकतंत्र से जुड़े हिंदी में (FAQ)

Q :- अप्रत्यक्ष लोकतंत्र कितने प्रकार हैं

Ans :- 2 प्रकार होते हैं अध्यक्षीय शासन प्रणाली और संसदीय शासन प्रणाली

Q :- लोकतंत्र क्या है

Ans :- शासन व्यवस्था की वैसी प्रणाली जिसने जनता या जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधि शासन करते हैं उसे हम लोकतंत्र कहते हैं

Q :- लोकतंत्र कितने प्रकार हैं

Ans :- 2 प्रकार होते हैं प्रत्यक्ष लोकतंत्र और अप्रत्यक्ष लोकतंत्र

Q :- लोकतंत्र की विशेषताएं क्या है

Ans :- लोकतंत्र की विशेषता लोकतंत्र नागरिकों की गरिमा को बढ़ाता है हमारे पास नागरिकों में समानता को बनाता है बात यह है कि अगर आपको समानता दी जाए तब बराबरी दी जाती है फैसला लिया जाए तो क्या हुआ बेहतर होगा


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *