Premchand ka Jivan Parichay

मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय: Biography of Munshi Premchand, Premchand ka Jivan Parichay

Premchand ka Jivan Parichay: मुंशी प्रेमचंद का बायोग्राफी, जीवनी, निबंध,अनमोल विचार, राजनितिक विचार, जयंती, शिक्षा, धर्म, जाति, मृत्यु कब हुई थी, शायरी, आत्मकथा (Tulsidas Biography uotes, Biography in Hindi) (Jeevan Parichay, Jayanti, Speech, History, University, Quotes, Caste, Religion) मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय | Biography of Munshi Premchand | मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय इन हिंदी | Premchand ka Jivan Parichay मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय व साहित्यिक परिचय लिखिए

Premchand ka Jivan Parichay: आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय जो कि आपको बहुत ही आसान भाषा में समझ में आ जाएगा और आप जो भी जानकारी लेना चाहते हैं सारी जानकारी आर्टिकल में आपको मिल जाएगा तो इस आर्टिकल को आप पूरा लास्ट तक जरूर पढ़ें

प्रश्न पर क्लिक करें और उत्तर पर जाएं

मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय: Biography of Munshi Premchand

Biography of Munshi Premchand:

विषयजानकारिया
नाम Nameमुंशी प्रेमचंद
पूरा नाम Full Nameधनपत राय
जन्म Birth31 जुलाई 1880
जन्म स्थल place of birthवाराणसी के लमही गाँव मे हुआ था .
मृत्यु birth8 अक्टूबर 1936
पिता fatherअजायब राय
माता Motherआनंदी देवी
भाषा Languageहिन्दी व उर्दू
राष्ट्रीयता nationalityहिन्दुस्तानी
प्रमुख रचनाये major worksगोदान, गबन

मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय हिंदी में

Premchand ka Jivan Parichay: प्रेमचंद का जीवन परिचय हिंदी में प्रेमचंद के बचपन का नाम धनपत राय था इसका जन्म 1830 में उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले में लमही नामक गांव में हुआ था इसके पिता का नाम धनपत राय था और माता का नाम आनंदी देवी था इसके पिता की मृत्यु हो जाने के बाद प्रेमचंद जी का बचपन बड़े ही अभावों में व्यतीत हुआ कुछ परेशानियों के कारण इंटर की परीक्षा नहीं दे सके शिक्षा विभाग से सब डिप्टी इंस्पेक्टर हो गए आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी से प्रेरणा पाकर इन्होंने प्रेमचंद नाम धारण किया 56 वर्ष की अल्प आयु में सन 1936 में उनका स्वर्गवास हो गया

मुंशी प्रेमचंद का साहित्यिक परिचय

Biography of Munshi Premchand: मुंशी प्रेमचंद्र की साहित्यिक क्षेत्र में इनका अतुलनीय योगदान रहा उन्होंने सरकारी नौकरी से त्यागपत्र देकर आजीवन साहित्य की सेवा की उन्होंने मर्यादा और मधुरी नाम की पत्रिका का संपादन किया काशी में अपना प्रेस खोला इन्होंने और जागरण पत्र का सम्मान किया इनका साहित्य समाज सुधार और राष्ट्रीयता भावना से अनूप प्रेरित है वह अपने समय की सामाजिक एवं राजनीतिक का पूरा प्रतिनिधित्व करता है किसानों का दशा समाजिक 1 दिनों में डर पति नारियों का वेदना वर्ण व्यवस्था की कठोरता के भीतर हरिजनों को पिता का मार्मिक चित्रण मिलता है

मुंशी प्रेमचंद का कृतियां

Premchand ka Jivan Parichay:

उपन्याससेवासदन, निर्मला, रंगभूमि, गगन, गोदान आदि
कहानी संग्रहमानसरोवर
नाटककर्बला, संग्राम, रूठी रानी, प्रेम कीवेदी
निबंधकुछ विचार

मुंशी प्रेमचंद का भाषा शैली

Premchand ka Jivan Parichay: मुंशी प्रेमचंद की भाषा शैली इन की भाषा उर्दू मिश्रित खड़ी बोली है इनकी शैली वर्णनात्मक हंसी प्रधान एवं धनात्मक है

मुंशी प्रेमचंद का हिंदी साहित्य में स्थान

Premchand ka Jivan Parichay: मुंशी प्रेमचंद्र की प्रेमचंद्र जी सच्चे अर्थी में ही साहित्य का आज के चंद्रमा है कहानी और उपन्यास के क्षेत्र में इनका स्थान सर्वोपरि है जोकि आप सभी को पता होगा मुंशी प्रेमचंद्र की जो कहानी है यह बहुत अच्छी है जो आप लोग इसे अच्छी तरह से पढ़ लिए होंगे आपको समझ में आ गया होगा

इसे भी पढ़ सकते हैं Premchand ka Jivan Parichay

FOLLOW ME

YouTubeClick
InstagramClick
TwitterClick
FaceBookClick

कंक्लुजन

Premchand ka Jivan Parichay कहानी आप सभी को बहुत ही अच्छी तरह से समझ में आ गया होगा जो कि आपको बहुत ही आसान भाषा में हम बताए हैं ताकि आप लोगों को बहुत अच्छी तरह से समझ में आ जाए और आप जो भी जानकारी लेने के लिए आए थे आप लोगों को सारी जानकारी मिल गया होगा अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आए तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं ताकि वह भी मुंशी प्रेमचंद्र का जीवन परिचय जान सके

मुंशी प्रेमचंद से जुड़े (FAQ) हिंदी में

Q :- प्रेमचंद का उपन्यास क्या है?

Ans :- सेवासदन, निर्मला, रंगभूमि, गगन, गोदान आदि

Q :- मुंशी प्रेमचंद का पूरा नाम क्या है

Ans :- धनपत राय

Q :- मुंशी प्रेमचंद का जन्म कहां हुआ था

Ans :- वाराणसी के लमही गाँव मे हुआ था

Q :- मुंशी प्रेमचंद का मृत्यु कब हुआ था

Ans :- 8 अक्टूबर 1936

Q :- मुंशी प्रेमचंद का माता का क्या नाम है

Ans :- आनंदी देवी

Q :- मुंशी प्रेमचंद का भाषा क्या थी

Ans :- हिन्दी व उर्दू

Q :- मुंशी प्रेमचंद का प्रमुख रचनाएं कौन सी है

Ans :- गोदान, गबन

Q :- मुंशी प्रेमचंद का कहानी संग्रह कौन सा है

Ans :- मानसरोवर

Q :- मुंशी प्रेमचंद का नाटक कौन कौन सा है

Ans :- कर्बला, संग्राम, रूठी रानी, प्रेम कीवेदी


Q :- प्रेमचंद किस लिए प्रसिद्ध है?

Ans :- भारतीय उपमहाद्वीप के सबसे प्रसिद्ध लेखकों में से एक हैं

Leave a Comment

Your email address will not be published.